मत

विश्लेषण

कर्नाटक विधान सभा रिजल्ट 2018: बीजेपी ने अभी तक के रुझानों में बनाई बढ़त

कर्नाटक
  • 274
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    274
    Shares

कर्नाटक में आज विधान सभा चुनाव के नतीजे आने वाले हैं। वोटों की गिनती शुरू हो चुकी है और जल्द ही पता चल जायेगा कि राज्य में खिलेगा कमल या बना रहेगा कांग्रेस का हाथ। कर्नाटक में आज होने वाली गिनती में ये साफ़ हो जायेगा कि कर्नाटक में किसकी बनेगी सरकार।

कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए वोटों की गिनती सुबह 8 बजे से शुरु हो चुकी है। राज्य की 224 सदस्यीय विधानसभा की 222 सीटों पर 12 मई को 72.13 फीसदी मतदान हुआ था। शुरूआती रुझान में कांग्रेस आगे चल रही थी लेकिन जैसे जैसे आंकड़े सामने आने लगे बीजेपी आगे निकलती हुई नजर आ रही है। दोपहर तक ये साफ़ हो जायेगा कि कौनसी पार्टी राज्य में बढ़त के साथ सरकार बनाने में कामयाब होगी।एक नजर डाल लेते हैं अभी तक के रुझानों पर:

-211 के सीटों  पर रुझान आ चुके हैं।

-102 सीटों पर भाजपा, 71 सीटों पर कांग्रेस और जेडीएस 37 सीटों पर आगे

-पहले एक घंटे के रूझानो में बीजेपी 10 सीटों से आगे है।

-कर्नाटक के एससी/एसटी क्षेत्र में बीजेपी बढ़त बनाए हुए है।

-कोस्टल कर्नाटक रीजन में  बीजेपी ने बनाई बढ़त। 13 सीटों पर आगे हुई बीजेपी, कांग्रेस 5 सीटों पर आगे, जेडीएस की 3 सीटों पर बढ़त।

– चामुंडेश्वरी से सिद्दारमैया 11 हजार वोटों से पीछे चल रहे हैं।

-कांग्रेस के दिग्गज नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के बेटे प्रियांक खड़गे चित्तापुर से पीछे चल रहे हैं।

-चन्नपटना से एचडी कुमारस्वामी आगे चल रहे हैं।

-मेंगलुरु नॉर्थ से बीजेपी नेता भरत शेट्टी चल रहे हैं आगे।

लिंगायत समुदाय के क्षेत्र में भी बीजेपी ने बढ़त बनाए हुए है ऐसा लगता है कि सिद्धारमैया का लिंगायत को अलग धर्म का दर्जा देने की चाल भी उलटी पड़ गयी है। कर्नाटक विधान सभा चुनाव के नतीजे सिद्दारमैया के लिए अस्तित्व की लड़ाई है और लगता है कि वो अपनी दोनों ही सीटें बचा पाने में नाकाम रहेंगे।

बता दें कि, चुनाव के बाद हुए एग्जिट पोल में राज्य में त्रिशंकु विधानसभा का अनुमान लगाया गया है लेकिन अभी तक रुझानों को देखकर तो यही लगता है कि मोदी लहर का असर कर्नाटक के लोगों पर भी बढ़-चढ़ कर बोल रहा है।

Comments

Mahima Pandey

Nationalist/ Embrace Progressive view/ Only support truth and justice...
  • twitter

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

अर्थव्यवस्था

इतिहास

संस्कृति