मत

विश्लेषण

ह्यू जैकमैन और अन्य सितारे जो वैदिक परम्पराओं से हैं बेहद प्रभावित

हिंदू धर्म ह्यू जैकमैन

वेद और उपनिषद जैसे हिंदू ग्रंथों ज्ञान में ज्ञान का भंडार है या यूं कहे कि ये ज्ञान, प्रेरणा, अंतर्ज्ञान, काव्य, दर्शन, विज्ञान और दृष्टि का आदि का संगम है। वेदों का ज्ञान शाश्वत है। हिंदू धर्म में कई ऐसे सवालों के जवाब हैं जिसका जवाब विज्ञान में भी नहीं मिलता है। एक बार गर अगर आपने वेद और उपनिषद की गहराईयों में जाना शुरू कर दिया तो आपको अपने हर उस सवाल का जवाब मिलेगा जिसकी तलाश आप कर रहे हैं साथ ही आपको मन की शांति भी मिलती है। शायद यही वजह है कि गैर-हिंदू लोग भी अब हिंदू धर्म को अपना रहे हैं। वेद और उपनिषद के ज्ञान से प्रभावित् होकर गैर-हिंदू लोगों की भी आस्था इससे जुड़ती जा रही है। ऐसे ही एक प्रसिद्ध हॉलीवुड स्टार ह्यू जैकमैन हैं जो सनातन परंपराओं से प्रभावित हैं। वर्ष 2014 में अपने एक इंटरव्यू में उन्होंने स्वीकार किया था कि वैदिक साहित्य और परंपराओं से वो काफी प्रभावित हैं। जब ह्यू जैकमैन से ये सवाल किया गया कि उन्होंने भारत से क्या सीखा? ह्यू जैकमैन ने कहा,  “हम जिन ग्रंथों का पालन करते हैं वे पश्चिम और पूर्व के बीच का मिश्रण हैं और सोक्रेट्स से लेकर उपनिषद तक, भागवत गीता से लेकर अलग अलग धर्म के ग्रंथों की गहराई में गया।  और शंकराचार्य। मैं महेश योगी की जीवनी पढ़ रहा हूँ और जिस तरह से उन्होंने ट्रेसडेंशल मेडिटेशन अर्थात भावातीत ध्यान पूरी पश्चिमी दुनिया में लेकर आये वो अद्भुत है। मुझे चर्च में ले जाया गया था और मेरे दिमाग में उठे प्रश्न मुझे परेशान करने लगे – तब मुझे कुछ ही जवाब मिले – मगर जैसे ही मैंने वैदिक विचारों, ग्रन्थों और तथ्यों को खोजा तो मुझे सब जवाब मिल गये और मैं पूरी तरह संतुष्ट हो पाया। ”

ये देखकर बहुत ही अच्छा लगता है कि जहां हमारे लेफ्टिस्ट-लिबरल सेक्युलर माफिया वैदिक परंपरा को महत्व नहीं देते वहीं ह्यू जैकमैन, रसेल ब्रांड और जूलिया रॉबर्ट्स जैसे गैर-हिंदू धर्म के लोग वैदिक साहित्य और अन्य हिंदू ग्रंथों के महत्व को समझ रहे हैं और इस ओर आकर्षित हो रहे हैं। हिन्दू धर्म ग्रन्थ भगवद्गीता व् उपनिषद में उन्हें अपने हर सवाल के जवाब मिल रहे हैं और वो इसके जरिये शांति के मार्ग की ओर अग्रसर हो रहे हैं।

हिंदू आध्यात्मिकता से न सिर्फ ह्यू जैकमैन बल्कि फेसबुक संस्थापक मार्क जुकरबर्ग को भी मदद मिली थी। उन्होंने कहा उनकी कंपनी एक कठिन दौर से गुजर रही थी तब उन्होंने उत्तराखंड के कैंची धाम आश्रम गये थे।

मशहूर रॉक बैंड बीटल्स भी ऋषिकेश में महर्षि महेश योगी के आश्रम में रहने आये थे। इस बैंड ने भी हिंदू धर्म में अपनी रूचि दिखाई। उन्होंने आश्रम में 48 गाने लिखे और योग साधना की शिक्षा भी ग्रहण की। इसके बाद हॉलीवुड की पॉप क्वीन मडोना भी हिंदू धर्म से इस कदर प्रभावित हैं कि हिंदू धर्म की महिलाओं की तरह श्रृंगार भी करती हैं और वो अक्सर ही हिंदू धर्म की प्रार्थनाओं में शामिल होती हैं। भारत में प्राचीन संस्कृति, सभ्यता और धर्म का अनूठा संगम है और यहां सभी को अपने सवालों के जवाब मिलते हैं जो उन्हें कहीं नहीं मिलता। हमेशा से ही हिंदू धर्म को बोलबाला हुआ करता था और आज भी दुनिया के कई देश और बड़ी हस्तियां हिंदू धर्म से प्रभावित हैं।

Comments

India’s most loved Right-Wing blog
  • facebook
  • twitter

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

अर्थव्यवस्था

इतिहास

संस्कृति