मत

विश्लेषण

श्रेणी: संस्कृति

भारत की चोरी हुई सबसे मूल्यवान प्राचीन अप्सरा आ रही है वापस

अमेरिका के संग्रहालय में रखी ‘अप्सरा’ नामक एक हजार साल पुरानी मूर्ति को जल्द ही भारत में वापस लाने की तैयारी शुरू हो गयी है। केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय के अनुसार यह मूर्ति 10वीं शताब्दी की है। मूर्ति की चोरी मध्य युग में नहीं बल्कि दो दशक पहले राजस्थान के सीकर के बाड़ौली गांव के एक […]

भाजपा पूर्वांचल मोर्चा का मकर संक्रांति महोत्सव “अद्भुत! अविस्मरणीय!! अकल्पनीय!!!”

ऐसा विहंगम दृश्य ना ही पहले कभी देखा गया ना ही पहले कभी सुना गया। एक ऐसी भीड़ जिसने क्षेत्रीय राजनीति को समझने वाले राजनीतिक पंडितों की भी नींद हराम कर दी। इस कार्यक्रम ने इस बात को सिद्ध कर दिया कि आगे आने वाले समय में कोई भी राजनीतिक दल पूर्वांचल वासियों को नजरंदाज […]

प्राचीन भारत में इन आठ तरीकों से होते थे विवाह, दो आज तक प्रचलन में हैं

हिंदू धर्म में विवाह को सोलह संस्कारों में से एक संस्कार माना गया है। विवाह = वि + वाह, अतः: इसका शाब्दिक अर्थ है – विशेष रूप से (उत्तरदायित्व का) वहन करना। पाणिग्रहण संस्कार को सामान्य रूप से हिंदू विवाह के नाम से जाना जाता है। अन्य धर्मों में विवाह पति और पत्नी के बीच एक प्रकार का करार होता है जिसे कि विशेष परिस्थितियों में तोड़ा भी […]

श्री राम सिर्फ उत्तर भारत तक सीमित नहीं, श्री राम सर्वत्र हैं

हाल ही में, उत्तर प्रदेश के ग़ाज़ियाबाद में यादवों के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में मुलायम सिंह ने यह बयान दिया कि श्री राम की पूजा केवल उत्तर भारत में ही की जाती है लेकिन श्री कृष्ण भगवान की पूजा उत्तर भारत से लेकर दक्षिण भारत तक की जाती है। आदि पुराण में श्रीकृष्ण भगवान […]

रानी पद्मिनी पर आपत्तिजनक टिप्पणी के लिए देवदत्त पटनायक को एक महिला का करारा जवाब

देवदत्त पटनायक जी, मैं यह स्वीकार करते हुए अपनी बात को शुरू करती हूँ  कि मैंने आपके द्वारा लिखी हुई महान पुस्तकों को नहीं पढ़ा है। इसलिए मुझे इन पर टिप्पणी करने से परहेज करना होगा। हालांकि, मैंने आपके ट्वीट्स पढ़े हैं और हाल ही में चित्तौड़गढ़ की रानी पद्मिनी के बारे में किए गए […]

[वैज्ञानिक विश्लेषण]: इसलिए हिन्दू नहीं करते एक गोत्र में विवाह

“आधे टार्गेरियन पागल हो गए थे ना?” — सरसी लान्निस्टर का कौटुम्बिक व्यभिचार पर एक कटाक्ष ये उदहारण एचबीओ श्रृंखला, गेम ऑफ़ थ्रोन्स से लिया गया है, जहाँ सरसी नामक एक महिला किरदार जिसके अपने सहोदर भाई के साथ यौन सम्बन्ध हैं, कौटुम्बिक व्यभिचार के बारे में अपनी राय रख रही है। अपने परिजनों से […]

कार्ल सेगन: आज तक के सबसे बड़े खगोल-शास्त्री हिंदू धर्म से प्रेरित थे

१४ फरवरी १९९० को जब वायेजर-१ दूर अंतरिक्ष में पृथ्वी से ६ अरब किलोमीटर की दूरी पर था, तब कार्ल सेगन (प्रतिष्ठित खगोलविद और पुलित्जर पुरस्कार विजेता लेखक) के सुझाव पर पृथ्वी का एक फोटो लिया गया था। उस चित्र में, पृथ्वी को बिखरे हुए प्रकाश के बीच एक बिंदु सामान दर्शाया था। चित्र से […]

सरल विवेकहीन अज्ञानी साधारण हिंदू

यदि कोई हमारे उपमहाद्वीप के प्राचीन और मध्यकालीन इतिहास को तर्कसंगत तरीके से देखता है, तो उसे यह निष्कर्ष प्राप्त होगा कि विश्व का सबसे पुराना धर्म, हिंदू धर्म, क्षेत्र और अनुयायियों की क्षति के मामले में सबसे अधिक नुकसान उठाने वाला धर्म प्रतीत होता है। वैदिक काल के बाद के समय में सनातन धर्म […]

जगन्नाथ मंदिर में इसलिए है गैर-हिन्दुओं के प्रवेश पर प्रतिबन्ध

हाल ही में एक प्रसिद्ध वामपंथी विचारक आकार पटेल ने अपने फर्स्टपोस्ट के एक लेख में विचार व्यक्त किया, जिसमें उन्होंने बताया जगन्नाथ पुरी मंदिर की भव्यता से बहुत प्रभावित हैं लेकिन वह इस बात से दुखी हैं कि इस भव्य मंदिर में गैर हिंदुओं के प्रवेश की अनुमति नहीं है। यहाँ पर इस लेख […]

सौ मीटर ऊँचे भगवान श्री राम की प्रतिमा देखने में कैसा लगेगा? सपना साकार होने वाला है

मराठी कवि जी.डी. मदगुलकर द्वारा संगीतबद्ध और सुधीर फड़के द्वारा गाया गया गीत रामायण मराठी साहित्य में एक विशेष स्थान रखता है। यह महाकाव्य रामायण का वर्णन करते 56 गीतों से बना है। आलोचनात्मक रूप से भी प्रशंसित गीत रामायण ने जी.डी. मदगुलकर को ‘आधुनिक वाल्मीकि’ की ख्याति दिलवाई जिसकी श्रृंखला 1955-56 में लोगो के […]

हिन्दू त्योहारों पर विलाप करने वाले पर्यावरणवादियों का बड़ा मकसद क्या है, हम बताते हैं

बीते दिनों की बात हो गयी जब आपको त्यौहार की तिथि देखने के लिए कैलेंडर का रुख करना पड़ता था अब सोशल मीडिया के ज़माने में त्योहारों की तिथि एक माह पहले ही पता चल जाती है | जब एक महीने पहले से लातूर का सूखाग्रस्त कुंवा और उसके आसपास जमी भीड़ वाली सालों पुरानी […]

मॉरीशस के हिंदुओं ने दुनिया भर के हिंदुओं को गौरवान्वित किया है

अफ्रीका के तट में एक छोटा सा द्वीप है मॉरीशस। यह अफ्रीका में एकमात्र देश हैं जहाँ हिन्दू बहुसंख्यक हैं, और यह इसे काफी दिलचस्प बनाता है। इस छोटे से और सुंदर देश में करीब 6,70,000 हिन्दू रहते हैं। मॉरीशस में बहुत से हिन्दू मंदिर भी हैं। हालांकि यह नवरात्रि कुछ विशेष था, द्वीप के […]
Page 1 of 3123 »

अर्थव्यवस्था

इतिहास

संस्कृति