मत

विश्लेषण

श्रेणी: अर्थव्यवस्था

मलेशिया में सिंगल रेट जीएसटी हो गयी फेल, और श्रेष्ठ साबित भारत का स्लैब-बेस्ड जीएसटी स्ट्रक्चर

मलेशिया में महातिर बिन मोहम्मद ने नई सरकार बनाने के बाद घोषणा की है कि वो जीएसटी की दर 6 प्रतिशत घटाएंगे। मलेशिया में जीएसटी 2015 में लागू किया गया था। सरकार ने उसी दर पर लक्जरी कारों और नियमित घरेलू सामानों पर कर लगाया था। जीएसटी से नाराज लोगों ने नजीब सरकार के खिलाफ […]

‘खाने के ओवरचार्जिंग’ पर रेलवे प्रशासन ने की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई

ट्रेन में अगर सफ़र लंबा है तो अपने खाने की व्यवस्था को लेकर हो रही चिंता तो अब आप भूल जाइये क्योंकि अब रेल मंत्री पियूष गोयल ने भारतीय रेल में बिकने वाले भोजन की गुणवत्ता को सुधारने के लिए कमर कस ली है। दरअसल, लगातार ट्रेनों में बिकने वाले खाने के दामों से संबंधित […]

बड़ी खबर: भारत की जीडीपी को लेकर संयुक्त राष्ट्र की भविष्यवाणी

“2018 में भारत की अर्थव्यवस्था में 7.2 प्रतिशत की वृद्धि होने की संभावना जताई जा रही है और अगले साल यह दर मजबूत निजी खपत, सार्वजनिक निवेश और वर्तमान समय में हो रहे ढांचागत सुधारों के दम पर आगे बढ़कर 7.4 प्रतिशत तक पहुंच जाएगी। “इससे पहले कि सभी मोदी विरोधी लोग मुझे ऐसा कहने […]

नोटबंदी का पहला धमाकेदार असर: मोदी सरकार ने टैक्स चोरो के लिए बुरे नए साल का प्रबंध किया है

नोटबंदी (विमुद्रीकरण) की घोषणा के बाद के दिनों को याद करें, जब विपक्ष और उदारवादी मीडिया ने अपनी आवाज को बुलंद करके इसका विरोध किया था कि यह सरकार की एक बहुत बड़ी असफलता है, सिर्फ इसलिए क्यूंकि 99 प्रतिशत पैसा बैंकों में वापस आ गया था? सरकार ने इस बारे में कई बातें कहीं […]

मोदी सरकार की नयी औद्योगिक नीति

२०१४ के ऐतिहासिक चुनाव अभियान के दौरान नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में जोर देते हुए कहा था कि, “मेरा मानना है कि सरकार को व्यापार नहीं करना चाहिए और उनका ध्यान ‘मिनिमम गवर्मेंट एंड मैक्सिमम गवर्नेंस’ पर होना चाहिए”। जिसमें उन्होंने संकेत दिया कि वे अर्थव्यवस्था को राज्य नियंत्रण के बंधन से और अधिक […]

क्या गडकरी बन सकते हैं वह भगीरथ जिसकी प्रतीक्षा गंगा कर रही है?

गंगा नदी को सनातन धर्म में बड़ा ही महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है। अति प्राचीन समय से गंगा नदी ने न केवल अपने जल से बल्कि अपने क्षेत्र में फसलों द्वारा लाखों भारतीयों का पालन पोषण किया है।  गंगा नदी को देवी माँ के रूप में सम्मान दिया गया है। जो हमें जीवन प्रदान करती हैं, […]

भारत ने लगायी वैश्विक समृद्धि सूचकांक 2017 में चार पायदानों की छलांग

एक छोटे से विराम के बाद, भारत आर्थिक विकास के मोर्चे पर कुछ प्रभावशाली आँकड़े दर्ज कर रहा है। कांग्रेस के कुशासन के एक दशक बाद नागरिक आश्वस्त हैं कि देश की अर्थव्यवस्था अब सही रास्ते पर आ गई है। कांग्रेस को जब सत्ता मिली, तब ये 8+ जीडीपी की विकासशील अर्थव्यवस्था थी जिसे उन्होंने […]

कांग्रेस का मूडीज़ के भारत के रेटिंग्स अपग्रेड का बेतुका और घटिया विरोध

राजनैतिक ज्ञान, आर्थिक समझ और सामान्य जागरूकता के एक निराले शो में, कांग्रेस ने मूडीज़ द्वारा भारत की रेटिंग “Baa3” से “Baa2” में सुधार किये जाने  पर जो दांव खेला, वो कांग्रेस को ही उल्टा पड़ गया। कांग्रेस ने मोदी पर आरोप लगाया कि उन्होंने मूडीज़ को खरीद लिया है इसीलिए मूडीज़ ने भारत को […]

अर्श से फर्श तक: अनिल अम्बानी के आरकॉम की कहानी

२००० के दशक के प्रारम्भ तक, मोबाइल मात्र अमीरों और शक्तिशाली लोगों का प्रतीक माना जाता था। अमीर लोग बड़ी शान के साथ मोबाइल को अपनी कमर बेल्ट पर लटकाते थे और उन अमीर लोगों के अलावा समाज के बाकी लोग स्वयं को, इस रहस्यमय उपकरण के प्रयोग से वंचित और दूसरों पर आश्रित महसूस […]

अच्छे दिन: इन कारणों से बढ़ाई मूडिज़ ने भारत की रेटिंग्स

पिछले कुछ दिन नरेंद्र मोदी सरकार को काफ़ी राहत देने वाले रहे हैं। एक तरफ़ उनकी लोकप्रियता को लेकर आया सर्वेक्षण जहाँ व्यक्तिगत तौर पर मोदी और बीजेपी को आश्वस्त करता है वहीं, नोटबंदी और जीएसटी के बेज़ा विरोध में जुटे विपक्ष को अंतरराष्ट्रीय क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडिज़ ने भारत की क्रेडिट रेटिंग को बढ़ाकर […]

डिजिटल लेन देन बढाने के लिए भारत सरकार बंद कर सकती है चेक बुक सुविधा

8 नवम्बर 2016 यह ऐतिहासिक दिन भारत के इतिहास में एक बड़े इकोनोमिक रिफार्म के रूप में हमेशा के लिए दर्ज हो चुका है। इसी दिन प्रधानमंत्री मोदी ने काले धन पर अंकुश लगाने के लिए अचानक से 500 और 1000 रुपये की नोटबंदी की एक बड़ी घोषणा कर देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया […]

जीएसटी रेट कम होने के बाद मुनाफाखोरी में लगे व्यवसाइयों के खिलाफ एनएए करेगा कार्यवाही

क्या आपने सोशल मीडिया पर वायरल वो फोटो देखी है, जिसमें यह स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा था कि मैकडॉनल्ड्स ने जीएसटी में १८% से ५% तक की कटौती के कारण, अपने ग्राहकों को लाभ से वंचित हुए, अपने रेगुलर लाटे की कीमत १२०.३४ रुपये से बढ़ाकर १३५.२४ रुपये कर दी थी। तकनीकी तौर […]
Page 1 of 212 »

अर्थव्यवस्था

इतिहास

संस्कृति