मत

विश्लेषण

श्रेणी: व्यंग

जसलीन-अनूप जलोटा के रिश्ते पर निशाना साधना गलत है

सितम्बर माह में बिग बॉस सीजन 12 का आगाज हो चुका है इस शो में शामिल हस्तियों की लिस्ट पहले ही सामने आ गयी थी अब शो के ग्रैंड प्रीमियर पर सभी सितारे सामने आ गये हैं। इस बार ‘बिग बॉस 12’ की थीम ‘विचित्र जोड़ी’ रखी गई है और मुकाबला सिंगल्स और जोड़ियों के […]

‘कम्मिंग सून’…आपके नजदीकी सिनेमा घरों में आ रहे हैं तेजप्रताप यादव

यदि आप सपना देख सकते हो तो उसे पूरा भी कर सकते हैं। जैसा की कहावत है, अपने सपनों को साकार करने के लिए कभी देर नहीं हुई है। ऐसा ही कुछ आजकल बिहार की राजनीति से परे लालू प्रसाद के बेटे तेजप्रताप यादव के साथ हुआ है जो अब अभिनेता बनने के अपने सपने […]

लोकतंत्र खतरे में है

हमारे देश में दो चीजे बार बार खतरे में आ जाती है। एक तो है “धर्मविशेष” जो पिछले कई दशकों से खतरे में न आये इसीलिए देश की पिछली सरकारों ने बड़े जतन से रखा हुआ था लेकिन 2014 के बाद से नरेन्द्र मोदी सरकार के कार्यकाल में यह “धर्मविशेष” बार बार खतरे में आ ही जाता […]

राहुल गाँधी निर्विरोध जीतने वाले हैं कांग्रेस अध्यक्ष का पद

राहुल गाँधी 2004 में सक्रिय राजनीति का हिस्सा बने लेकिन वे हमेशा कांग्रेस पार्टी की तरह इस देश को भी अपनी जागीर ही समझते रहे इसलिए उन्होंने कभी राजनीति को गंभीरता से लिया ही नहीं। पुश्तैनी सीट से आसान जीत दर्ज करवा दी गयी तो उन्हें कभी पता ही नहीं चला की जीतने के बाद […]

15 बार जब गिरिराज सिंह ने साबित किया ट्विटर के असली राजा वही हैं

भारत में करीब 25 मिलियन सक्रिय ट्विटर उपयोगकर्ता हैं।  लगभग हर सेलिब्रिटी ट्विटर पर है। वार्ड प्रमुख से लेकर प्रधान मंत्री तक, लगभग हर राजनीतिक पार्टी और राजनीतिज्ञ ट्विटर पर हैं। । सोशल मीडिया के एक प्रमुख समुदाय होने के नाते, ट्विटर पर लगभग हर दिन व्यंग्यात्मक टिप्पणियां, गरमा गरम बहस, टिप्पणी थ्रेड्स, मीम और […]

मोदीराज में सब खुश हैं? चलिए उनसे मिलाते हैं जो नहीं हैं

26 मई 2014 के बाद से देश कि आबो हवा इतने तेजी से राष्ट्रवादी हो रही है की जिन लोगो को 60 सालों से पाकिस्तान परस्ती की और देश के खिलाफ जहर उगलने की आदत सी पड़ गयी थी उनका दम सा घुटने लगा है | जाहिर सी बात है अगर आपकी जहर उगलने की […]

केजरीवाल जी पहले क्रोधित थे, फिर शांत हुए, आजकल भयभीत हैं, वजह अनोखी है

कुछ लोग होते है सरे आम पिटने के बाद उठकर कहते है दम है तो अबकी बार मार के दिखा फिर पिटते है फिर वही कहते है लेकिन जबान को लगाम नही दे सकते | कुछ यही हाल हमारे केजरीवाल जी का है | बड़ा ही दिलचस्प मामला सामने आया और हो भी क्यूँ न […]

वैसे अगर सही सही कहूं तो गलती अपने राईट विंगर बंधुओं की ही हैं

बचपन से सिखाया जाता है गाली देना बुरी बात है, गाली नहीं देनी चाहिए। पर पता है लिबरल भारत की सोच कुछ अलग है। इस भारत में एक ही गाली को विविध परिस्थितियों में अलग-अलग तरह से देखने और उसका मूल्यांकन करने की शिक्षा दी जाती है। कुछ विशिष्ट लोगों के मुह से हमारे बुद्धिजीवियों […]

अगर आपमें ये ग्यारह गुण हैं तो सावधान, आप सेक्युलर हिन्दू हैं!

एक सेक्युलर हिन्दू की पहचान – हिन्दू जो है, इस देश मे दो नसल के हैं, एक राष्ट्रवादी सनातनी, और दूसरे सेक्युलर। कब कोई सेक्युलर सनातन धर्म की महिमा की तरफ खींचा चला आए, और कब कोई सनातनी सेकुलरिज्म का तालाब बन जाये, पता ही नहीं चलता। पर…. ‘ये सेक्युलर हिन्दू क्या है, ये सेक्युलर […]

लाख आरोप लगा लें, लेकिन आम आदमी पार्टी ने सच में भारत की राजनीति को बदल कर रख दिया है

हर कोई सबसे अलग और नया दिखना चाहता है क्योंकि जो दिखता है ज़रूरी नहीं वो बिकता भी है। बिकने के लिए बिकनी की तरह एक्सपोज़ करना ज़रूरी होता है, मतलब माल ग्राहक को वाकई “माल” लगेगा तभी उसे वो सड्डेनाल रखेगा। मार्किट में नया और अलग माल ही सबकी नज़रो में अटकता और खटकता […]

मतलब! केजरीवाल सच ही कह रहे थे की ईवीएम हैक की जा सकती है

डेढ़ महीने पहले संपन्न हुए चुनाव में ईवीएम के भरोसे पर बीजेपी को प्रचंड जीत मिली थी वरना जी वहाँ बीजेपी को कौन पूछता था, वह तो बिना चुनाव लड़े केजरीवाल साब की 350 सीटें आई होती लेकिन ससुरे अमित शाह ने न जाने कब जाकर ईवीएम ही छेड़ दी। जिस तरीके से अरविंद केजरीवाल […]

भारतीयों सेक्युलरों की “पहले गुजरात दंगो की तो बताओ” और अन्य पांच खूबियाँ

देश में बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें सेक्युलर याने धर्मनिरपेक्ष का ठप्पा लगाने का चस्का चढ़ा हुआ है। कुछ तो इतने खतरनाक हैं कि सेक्युलर की जगह ‘सिकुलर’ भी बन गए हैं। और आज की युवा पीढ़ी के तो क्या कहने, मतलब ‘इंडिया इज़ अ सेक्युलर स्टेट’ टी-शर्ट में लिखवा के भी घूमने लगते […]
Page 1 of 212 »

अर्थव्यवस्था

इतिहास

संस्कृति